नहीं करेंगे ये 5 बड़ी गलतियां, तो Share Market से हो सकती है बंपर कमाई

शेयर मार्केट (Share Market), आज के दौर में ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां रोजाना अरबों का लेन-देन होता है. कई लोगों को लगता है कि शेयर मार्केट में मोटा पैसा है तो कई को यह भी लगता है कि यहां फायदा कम नुकसान ज्यादा है. इसका कारण है, 90 फीसदी वो निवेशक जो स्टॉक मार्केट में कमाने के बजाय जमापूंजी भी गंवा जाते हैं. हर कोई शेयर बाजार से पैसे क्यों नहीं बना पाता है, इसके कुछ खास कारण हैं.

सलाह: इन पांच वित्तीय गलतियों से बचकर रहें निवेशक, नहीं उठाना पड़ेगा नुकसान

निवेशक एक लक्ष्य के तहत निवेश शुरू करते हैं, लेकिन वित्तीय विशेषज्ञों की मानें तो सिर्फ लक्ष्य निर्धारित करने से मुकाम हासिल नहीं होता, बल्कि उसके लिए जरूरत होती एक अच्छी योजना तैयार करने की।

निवेश (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अपने भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए लगभग सभी लोग निवेश की योजना बनाते हैं और छोटा या बड़ा निवेश शुरू कर देते हैँ। हालांकि, सभी निवेशक एक लक्ष्य के तहत निवेश शुरू करते हैं लेकिन यह काफी नहीं है। वित्तीय विशेषज्ञों की मानें तो सिर्फ लक्ष्य निर्धारित करने से मुकाम हासिल नहीं होता, बल्कि उसके लिए जरूरत होती एक अच्छी योजना तैयार करने की। कुछ गलतियों से बचकर निवेशक नुकसान से बच सकते हैं। ऐसे में इन पांच खास गलतियों से बचकर आप अच्छा निवेश कर दूसरों की सलाह से बाजार में करते हैं निवेश सकते हैं।

1. भावनात्मक रूप से फैसला लेने से बचें
आमतौर पर देखा जाता है कि कई निेवेशक अपने निवेश के फैसले भावनात्मक रूप से लेते हैं। लेकिन विशेषज्ञों की राय है कि लालच और भय दोनों निवेश के लिहाज से बेहद खराब हैं। हमेशा छोटे समय के उतार-चढ़ाव पर प्रतिक्रिया न करें। लंबे समय में जो निवेशक अल्पकालिक गति पर प्रतिक्रिया नहीं करते हैं, वे भावनात्मक निवेशक की तुलना में अधिक पैसा प्राप्त करते हैं।

2. अति आत्मविश्वास की भावना पड़ेगी भारी
वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार, जब निवेशक को यह लगता है कि उसका निर्णय दूसरों की तुलना में काफी बेहतर है और किसी को भी उनके निर्णय पर सवाल नहीं उठाना चाहिए, तो इसका अर्थ है कि वे अति आत्मविश्वास से भरे हुए हैं। लेकिन निवेश के लिहाज से पूर्वाग्रह से ग्रस्त निर्णय हानिकारक साबित हो सकता है।

3. एक साथ कई जगह निवेश न करें
बहुत से लोग एक साथ कई बीमा पॉलिसी/ म्यूचुअल फंड/ स्टॉक्स खरीद लेते हैं। ऐसा वह यह सोचकर करते हैं कि वे कई उत्पादों में विविधता लाकर पोर्टफोलियो में जोखिम कम कर रहे हैं, लेकिन ध्यान रहे कि पोर्टफोलियो में विविधीकरण रिटर्न को कम करता है। इसके साथ ही एक बार में आपके पोर्टफोलियो को ट्रैक करना मुश्किल हो जाता है। इसलिए वित्तीय लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमेशा सोच-समझ कर ही निवेश करें और एक साथ कई जगह पर निवेश से बचें।

4. ज्यादा रिटर्न पाने के लालच से बचें
आमतौर पर देखा जाता है कि नए निवेशक जब शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो उनका कोई शेयर काफी कम समय में दोगुना हो जाता है। इसके बावजूद वह और रिटर्न की लालच में रुके हुए रहते हैं। अगर बाजार तेजी से गिरता है तो रिटर्न खत्म हो जाता है। इसलिए एक तय रिटर्न की चाह रखें। उससे अधिक पर दूसरों की सलाह से बाजार में करते हैं निवेश नुकसान हो सकता है।

5. भीड़ का हिस्सा न बनने में ही भलाई
यह निवेशकों के बीच काफी सामान्य तरह का पूर्वाग्रह है। ऐसे निवेशक एक समूह का अनुसरण करते हैं या अपने समान सोच रखने वाले निवेशक समूह का हिस्सा बनना चाहते हैं। हालांकि, उन्हें इस बात का अहसास नहीं होता कि यह रणनीति उनके निवेश हितों के खिलाफ काम करती है और वे अन्य अवसरों को गंवा बैठते हैं।

विस्तार

अपने भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए लगभग सभी लोग निवेश की योजना बनाते हैं और छोटा या बड़ा निवेश शुरू कर देते हैँ। हालांकि, सभी निवेशक एक लक्ष्य के तहत निवेश शुरू करते हैं लेकिन यह काफी नहीं है। वित्तीय विशेषज्ञों की मानें तो सिर्फ लक्ष्य निर्धारित करने से मुकाम हासिल नहीं होता, बल्कि उसके लिए जरूरत होती एक अच्छी योजना तैयार करने की। कुछ गलतियों से बचकर निवेशक नुकसान से बच सकते हैं। ऐसे में इन पांच खास गलतियों से बचकर आप अच्छा निवेश कर सकते हैं।

1. भावनात्मक रूप से फैसला लेने से बचें
आमतौर पर देखा जाता है कि कई निेवेशक अपने निवेश के फैसले भावनात्मक रूप से लेते हैं। लेकिन विशेषज्ञों की राय है कि लालच और भय दोनों निवेश के लिहाज से बेहद खराब हैं। हमेशा छोटे समय के उतार-चढ़ाव पर प्रतिक्रिया न करें। लंबे समय में जो निवेशक अल्पकालिक गति पर प्रतिक्रिया नहीं करते हैं, वे भावनात्मक निवेशक की तुलना में अधिक पैसा प्राप्त करते हैं।

2. अति आत्मविश्वास की भावना पड़ेगी भारी
वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार, जब निवेशक को यह लगता है कि उसका निर्णय दूसरों की तुलना में काफी बेहतर है और किसी को भी उनके निर्णय पर सवाल नहीं उठाना चाहिए, तो इसका अर्थ है कि वे अति आत्मविश्वास से भरे हुए हैं। लेकिन निवेश के लिहाज से पूर्वाग्रह से ग्रस्त निर्णय हानिकारक साबित हो सकता है।

3. एक साथ कई जगह निवेश न करें
बहुत से लोग एक साथ कई बीमा पॉलिसी/ म्यूचुअल फंड/ स्टॉक्स खरीद लेते हैं। ऐसा वह यह सोचकर करते हैं कि वे कई उत्पादों में विविधता लाकर पोर्टफोलियो में जोखिम कम कर रहे हैं, लेकिन ध्यान रहे कि पोर्टफोलियो में विविधीकरण रिटर्न को कम करता है। इसके साथ ही एक बार में आपके पोर्टफोलियो को ट्रैक करना मुश्किल हो जाता है। इसलिए वित्तीय लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमेशा सोच-समझ कर ही निवेश करें और एक साथ कई जगह पर निवेश से बचें।

4. ज्यादा रिटर्न पाने के लालच से बचें
आमतौर पर देखा जाता है कि नए निवेशक जब शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो उनका कोई शेयर काफी कम समय में दोगुना हो जाता है। इसके बावजूद वह और रिटर्न की लालच में रुके हुए रहते हैं। अगर बाजार तेजी से गिरता है तो रिटर्न खत्म हो जाता है। इसलिए एक तय रिटर्न की चाह रखें। उससे अधिक पर नुकसान हो सकता है।

5. भीड़ दूसरों की सलाह से बाजार में करते हैं निवेश का हिस्सा न बनने में ही भलाई
यह निवेशकों के बीच काफी सामान्य तरह का पूर्वाग्रह है। ऐसे निवेशक एक समूह का अनुसरण करते हैं या अपने समान सोच रखने वाले निवेशक समूह का हिस्सा बनना चाहते हैं। हालांकि, उन्हें इस बात का अहसास नहीं होता कि यह रणनीति उनके निवेश हितों के खिलाफ काम करती है और वे अन्य अवसरों को गंवा बैठते हैं।

दूसरों की सलाह से बाजार में करते हैं निवेश

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

निवेश करते वक्त इन गलतियों से बचें

निवेश करते वक्त ज्यादातर लोग 5 आम गलतियां कर बैठते हैं, जिसे आसानी से टाला जा सकता है।

लोगों में आम धारणा होती है कि निवेश के 3 आसान कदम होते हैं। पहला एजेंट को ढूंढना, फिर आवेदन पत्र भरना और चेक काटकर देना। लेकिन, निवेश का ये तरीका सही नहीं है।

निवेश करते वक्त जरूरी है कि अहम बातों का ध्यान रखा जाए, नहीं तो आपको निवेश से अपेक्षित फायदा नहीं मिल पाएगा। सबसे पहले निवेश का लक्ष्य तय करना जरूरी है। इसके बाद ही आप योग्य निवेश विकल्पों में पैसा लगा पाएंगे, जिससे आपके निवेश का लक्ष्य पूरा हो सके।

निवेश करते वक्त ज्यादातर लोग 5 आम गलतियां कर बैठते हैं, जिसे आसानी से टाला जा सकता है।

1. योजना के बिना निवेश
निवेश का पहला कदम है लक्ष्य को निर्धारित करना। लक्ष्य का मतलब है कि आप किस उद्देश्य से निवेश करना चाहते हैं। लक्ष्य कुछ भी हो सकता है, जैसे घर खरीदना या बच्चों की पढ़ाई का खर्च। लक्ष्य पता होने पर ही आप तय कर सकते हैं कि भविष्य में आपको कितने पैसों की जरूरत पड़ेगी। लक्ष्य के बिना आप सही विकल्प नहीं चुन पाएंगे और आपकी जरूरतें पूरी नहीं हो पाएंगी।

2. डाइवर्सफाइ न करना
दूसरी आम गलती जो लोग कर बैठते हैं, वो है एक तरह के विकल्प में पैसे लगाए जाना। जैसे कई लोग सारा पैसा बैंक में रखना पसंद करते हैं या फिर प्रॉपर्टी में लगा देते हैं। जरूरी है कि निवेश के जोखिम को कम करने के लिए अलग-अलग तरह के एसेट में पैसा लगाया है। आदर्श पोर्टफोलियो वही है जिसमें सभी तरह के निवेश विकल्पों का समावेश हो।

3. जोखिम नजरअंदाज करना
निवेश करते वक्त जरूरी है कि निवेश से जुड़े जोखिम को भी समझा जाए। जैसे कई लोग दूसरों की सलाह पर अपना सारा पैसा शेयर बाजार में लगा बैठते हैं। उस वक्त वो इस बात को भूल जाते हैं कि शेयर बाजार में बिकवाली का दौर शुरू होने का जोखिम है। प्रॉपर्टी, सोना, कमोडिटी सभी के साथ जोखिम जुड़ा है। लोगों को अपने जोखिम उठा सकने की क्षमता को समझते हुए निवेश विकल्पों को चुनना चाहिए।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 268